अप्रैल 16, 2011

उन सबके नाम जिन्होंने ये शहर बनाया

कभी कभी बहरूपिये शहर से भाग जाने का मन करता है पर हर बार घुट-घुट कर यहीं किसी गली में कोने में रह जाता हूँ. पता नहीं क्यों इतने दिनों से बोरिया - बोरडम का देसी वर्ज़न - रह हूँ. कुछ करने का मन नहीं हो रहा. बस बैठे हैं खाली निपट अकेले. एक अदद खिड़की है भी पर पहली मंजिल से कूदना भारी पड़ सकता है. सोनसी तुम तबतक इंतज़ार करो जबतक मैं ग्राउंड फ्लोर पर आता हूँ ..पर जब तक सीढ़ियों से नीचे आता हूँ तब तक इस थोड़े शहर को देख लूँ.. अटक - भटक गया हूँ..

ये शहर हर समय एक से नहीं रहते हमारी तरह इनका मिजाज़ भी बदलता रहता है. सुबह जिन चेहरों को छोड़ के जाता हूँ दोपहर में वो नज़र ही नहीं आते. शाम होते होते कई और चेहरे उसमे शामिल हो जाते हैं. सब इतना गड्ड-मड्ड होता जाता है कि कनपट्टी के पास से पसीने की एक बूंद ज़मीन पे गिरने से पहले मुझे सुनाई दे जाती है और पैडल मार के अपनी खोह में कुछ चेहरों को लिए वापास आ जाता हूँ.

कुछ स्टोव के इर्दगिर्द पकती-उबलती चाय के साथ अपने पूरे दिन के नक़्शे को नहीं अपने उस कल को बनाते पकड़े जा सकते हैं. जहाँ चाय की चुस्कियों के साथ हँसता बोलता पूरा परिवार उसके दिल्ली वाले किस्सों का इंतज़ार करता होगा. अपने मुलक जाने वहां की हवा की बात ही कुछ और है..पर पता नहीं दिल की किसी कोने में उसे ये डर भी सताता है कि कहीं पहाड़गंज - बल्लीमारान- गोविन्द पुरी - लाल कुआँ - सदर- आज़ाद मारकेट- खरी बाउली से देर रात लौटते हुए कोई अंधी आलिशान गाड़ी उसे टक्कर न मार जाये और उसके सपने इसी शिवाजी स्टेडियम के इसी फुटपाथ पर अगली सुबह उसके बच गए साथी आपस में बाँट कर अपने अपने सपनों में न खो जाएँ. डर उस अकेले का नहीं उन सबकी सामूहिक संपत्ति है.

वापसी कभी नहीं हो पायेगी और न ही उनके चले जाने के बाद कोई उन्हें याद रखेगा. फिर अगली सुबह होगी. रस- ब्रेड के साथ नाश्ते में अखबार के पन्ने पलट उनमे कुछ अपना ढूंढ़ लेने की कसरत भी होगी. जैसे उनकी कोई कीमत नहीं वैसे ही उनके गाँव में कौन घरे गाय बियाई..?? कौन परधानी में धांधली कर जीत गया..?? ब्लाक परमुख एक्सीडेंट में हड्डी तुराये बइठे.. भिठिया के घसीटे पारय साल गुज़र गए. कोई खबर नहीं छापता. पर रोज़ जागरण से लेकर भास्कर के पन्ने सब पलटते हैं. इसी उम्मीद में की कभी तो कोई खोज खबर लेगा.

उधर मोबाईल कम्पनी भी इन्ही की जेब काटे रहती हैं. दस रूपये का टाक टाइम. उसमे कित्ती बात होगी जब तक असल पे आएंगे तबतक पैसा ख़तम. अगली बारी पच्चीस वाला डलवाए के बतियाबे...कभी गुगाद कर उधर से फोन आय अभी तो नंबर बदल चुका होता है.किसी कंपनी ने अपने प्रतिद्वंदी के ग्राहकों में सेंध लगा कर इनको और अस्थायी बना दिया. सोनसी तुम भी तो बोर नहीं हो रही हो न..ठीक है..

इन्होनें अपने खून पसीने से शहर को सींचा है. पर नाम इनका किसी दीवार - किसी गेट पर खुदा हुआ नहीं मिलेगा. नाम लिया भी जायेगा तो किसी लुटियन का. बच्चे यहाँ नहीं तो क्या इसे ही पाला पोसा है. मैंने आज तक मार्क्स को नहीं पढ़ा पर इतना तो मैं भी जनता हूँ कि आर्थिक अभिजिती में ये पराजित से योद्धा हैं. नहीं तो इनके नाम से भी कोई सड़क, कोई धर्मार्थ अस्पताल, कोई ट्रस्ट कहीं न कहीं स्कूल तो चला ही रहा होता..पर नहीं उनकी हैसियत नहीं है न..क्योंकि उनकी कोई सक्रीय आर्थिक हैसियत- भूमिका- औकात [आप इनमे से कोई भी चुनने के लिए स्वतंत्र हैं ] नहीं इसलिये हम उनके सामाजिक अस्तित्व को भी नकार देते हैं. बिलकुल वैसे ही जैसे किसी गरीब से रिश्तेदार को किसी भी घरेलू फैसले में भागिदार नहीं बनाया जाता. न ही उसकी राय को सुनने लायक माना जाता है. वही व्यवहार इनके साथ तब से आज तक और न जाने कब तक होता रहेगा..

शहर को जब तक बने रहना है तब तक इनके साथ यही होता रहेगा..वही रोज़ की चाय के बाद थका देने वाली उबती ज़िन्दगी मुंह पे हाथ रख आंखों पे छ्प्पे मार नींद को कुछ देर और रोक लेने की जिद ताकि कल परसों की तरह फिर मरोड़ होते पेट के साथ सारी रात न जागने पड़े..रोटी भले दुखते दांतों से चबाई न जाती हो, पनियाली दाल में नमक कुछ ज़यादा हो..

पर ये शहर ऐसे ही जिंदाबाद रहे, सौ दो सौ पांच सौ साल पूरे करे इसके लिए इनका होना और ऐसा ही बने रहने बहुत ज़रूरी है..और ये होगा भी क्योंकि न हम इनका अस्तित्व मानते हैं न ये उसके लिए लड़ते हैं..ठीक ही कहा है किसी ने सबसे बड़ी लडाई पेट से ही होती है और ये सब अभी तक इसी से जूझ रहे हैं..और तभी तक...

सोनसी नीचे तो आ गया हूँ पर मन कुछ ठीक नहीं लग रहा और वैसे भी खिड़की के बाहर धुआं है और मेरी आँख में चुभ भी रहा है..फिर कभी मिलेंगे अभी खिड़की बंद कर रहा हूँ..मुझे पता है तुम मुझे समझती हो इसलिए तुम्हे फ़ोन भी नहीं कर रहा हूँ. वैसे भी तुम्हारा नंबर है कहाँ मेरे पास. तुम तो वही मिलती हो खिड़की के पास. आज खिड़की बंद देख तुम खुद समझ जाना कुछ उलझ गया हूँ..बस उन्ही चेहरों में एक चेहरा चायपाओ का तो कभी तुम्हारा दिख रहा है इसलिए आँख मूंद कुछ देर लेटने जा रहा हूँ..

और मेरे पाठक इस भ्रम में बिलकुल न पड़ें कि उब से किसी दर्शन फ़रशन का जनम होता है..

शहर की ज्यामिति:
ये जो शहर है लखनऊ| शहर के शहर बने रहने की स्त्री व्याख्या| हज़रतगंज के बहाने दस का नोट और नन्हे हाथ|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आवाज़ें..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...