अगस्त 14, 2014

नाम की पहचान

उसने नहीं पूछा था तुमसे तुम्हारा नाम
तुमने ख़ुद ही बताया-
प्रतिमा गोखले !

फ़िर अपने से ही कहा
चित्तपावन ब्राह्मण,
महाराष्ट्रीयन,
हिन्दू,
भारतीय।

और यह भी कि इसमें छिपे हैं
इतिहास, भुगोल, समाज, भाषा, राष्ट्र

पता है तुम्हें, किससे बात कर रही थी?
एक राशन कार्ड की अर्ज़ी देने आए युवक से।
जिसका नाम सिर्फ़ नाम नहीं था,
बस उसमें से गायब थी ऊपर वाली सारी मदें।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आवाज़ें..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...