जनवरी 18, 2015

फ़िर दो तस्वीरें..

सड़क किनारे कहीं दिवाल नहीं थी, इसलिए पेड़ ही दीवार है। बसों का घंटाघर।

यह ढाबली, पैट्रोल पंप है। जब वह आ जाएगा, यह गुम हो जाएगी। 

1 टिप्पणी:

आवाज़ें..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...